Follow by Email

Tuesday, September 20, 2016

किसी नापाक ने भारत के दिल को टो के देखा है



किसी नापाक ने भारत के दिल को टो के देखा है,
नया आतंक घाटी में……..सरासर बो के देखा है ।
.
गए वो शख्स जिनकी रूह संग ख़ौला किये था खूं,
फलक पे रोते वो, खुद को, जिन्होंने खो के देखा है ।


कहीं सूरज, कहीं बादल, कहीं खुशियाँ कहीं गम यूँ,
शहादत दे मुकम्मल देश को…….संजो के देखा है |


कहीं पे है सियासत ऒ…….कहीं पे हो रहा मातम,
शहीदों ने भी कब्रों में, ये सब……..रो-रो के देखा है ।


शहादत दे, मुहब्बत देश से…...कम तर नहीं होती,
यहाँ पग-पग पे माँओं के...दिलों को टो के देखा है |


जो है जागीर भारत की…..जुदा दुश्मन हो जाने दो,
मिटा नामों निशाँ इसका, बहुत अब ढो के देखा है | 


हर्ष महाजन


बहरे हज़ज मुसम्मन सालिम
1222-1222-1222-1222