Follow by Email

Monday, May 30, 2016

लोग अपनों के हुनर पर फब्तियां कसने लगे




...

लोग अपनों के हुनर पर फब्तियां कसने लगे,
आस्तीं में सांप थे कुछ बे-वजह डसने लगे |

उन गुनाहों का सफ़र कैसे चले जो सर न हों,
जुर्म करता वो मज़े में बे-कसूर फसने लगे |

आजकल माहौल जीने का कहाँ शहरों में अब,
 
देख लुटती अस्मतें अब शहरिये हंसने लगे |

जो खिलाफत ज़ुल्म की करता बुलंद आवाज़ में,
इक शिकंजा उनपे रक्षक बे-सबब कसने लगे |

क्या कोई समझेगा दह्शत से भरी इस ज़िन्द को,
हर तरफ दहशत-ज़दा अपनों में ही बसने लगे |
 

हर्ष महाजन

०००

2122 2122 2122 212


Friday, May 27, 2016

अब ज़िन्दगी के ज़ख्म सब तहरीर करूंगा



...
 
अब ज़िन्दगी के ज़ख्म सब तहरीर करूंगा,
जो भी किये गुनाह सब शमशीर करूंगा |

दुनिया में मेरे कोई गम-ए-हिज्र चलेगा,
मैं उम्र भर उस शख्स की तौकीर करूंगा ।

गैरों के घर में बे-वफ़ा गर दीप जलेगा
उनकी जुबां तराश कर मैं तीर करूंगा ।

गर हो अदाएं तेरी मेरी शाम बनेगी
तेरी कसम मैं जुल्फों को ज़ंजीर करूंगा ।

दिल तेरा गर धडकेगा मेरी साँसे चलेंगी,
हर शाम को रंगीन सी तस्वीर करूंगा ।

हर्ष महाजन



तौकीर
=  सम्मान

तू देख खुदा ऐसा कहीं मंज़र न मिलेगा,




..

तू देख खुदा ऐसा कहीं मंज़र न मिलेगा,
अब कातिलों के शहर में खंज़र न मिलेगा |

अब देखो तुम ऐसा कहीं मंज़र न मिलेगा,
इन कातिलों के शहर में खंज़र न मिलेगा ।

आँखों से बहते अश्क भी अब सोचते हैं ये
ढूंढेंगे ऐसा घर भी तो ये घर न मिलेगा ।

ढूंढें कोई गमख्वार अब गैरों के शहर में,
दुश्मन तो मिलेगा मगर रहबर न मिलेगा ।

अब हो गया इन आंखों में दर्दों का ज़खीरा,
टूटेगा ऐसे अश्कों का समंदर न मिलेगा ।

हर्ष महाजन

मुझको जीने का खुदा आके सलीका दे दे


...


मुझको जीने का खुदा आके सलीका दे दे
हूँ  मुहब्बत में कोई आके तरीका दे दे ।

प्यार जिससे है मुझे उसके फ़साने हैं बहुत

ऐ खुदा चुपके से ज़ख्मों का ज़खीरा दे दे ।


जाने दुनिया ने क्यूँ झाँका मेरे दिल में यूँ ही
राज़ कोई तो मुझे मुहब्बत का लचीला दे दे |

कर दिया उसने कतल फिर भी मैं टुकड़ों में जिया,

अर्ज़ इतनी है खुदा दिल भी फकीरा दे दे ।


रात दिन मुझको सताये है वो बनके साया,
जा बसूं दिल में मैं उसके वो सलीका दे दे |


हर्ष महाजन