Follow by Email

Saturday, July 30, 2016

ज़िक्र खुद अपने गुनाहों पे किया करता हूँ



...

ज़िक्र खुद अपने गुनाहों पे किया करता हूँ,
कुछ सवालात सजाओं पे किया करता हूँ |

जब भी अल्फासों से लुट कर मैं गिरा हूँ इतना,
खुद मैं इज़हार खताओं पे किया करता हूँ |


लोग कहते हैं ये शीशे से भी नाज़ुक है दिल,
अब मैं हर बात दुआओं पे किया करता हूँ |


दिल था बेताब सुनूँ अब मैं सदायें उनकी,

पर गिला मैं भी हवाओं पे किया करता हूँ |

अब तो बतला दे मेरा उनको ठिकाना कोई,
मैं जिकर अब भी जफाओं पे किया करता हूँ
|

हर्ष महाजन

2122 1122 1122 22

Monday, July 25, 2016

अपने होटों पे सदा हम तो दुआ रखने लगे




...

अपने होटों पे सदा हम तो दुआ रखने लगे,
बे-वफाओं से भी हम तो अब वफ़ा रखने लगे|

है हुनर चुपके से धड़कन में उतर जाने का बस,
पर जो दुश्मन हैं बहुत दिल में सजा रखने लगे |

ज़िंदगी दी है खुदा ने और दी ये भी अदा ,
गर उठे उँगली नियत पर तो अना रखने लगे |

हम तो थे बेताब कड़कें बिजलियाँ बन के सदा,
पर लबालब खुद को अश्कों में सदा रखने लगे |

हम तो प्यासे थे बहुत, नदिया तलाशी थी मगर,
पर फलक भी बादलों में अब हवा रखने लगे |

थी दुआ उनकी चले जाएँ अभी दुनियां से हम,
हो असर इतना दुआ में हम दुआ रखने लगे |

नफरतें औ साजिशें हम पर फिदा होने लगीं,
ले मुक़द्दर हाथ में हम भी अदा रखने लगे |


हर्ष महाजन
.
2122 2122 2122 212
(रमल मुसम्मन मह्जुफ़)

Sunday, July 24, 2016

अबकी चुनावी जंग में हर दाव चलेगा

...


अबकी चुनावी जंग में हर दाव चलेगा,
तलवार से या तीर से हर घाव चलेगा |


साँसे भी दुश्मनों की यहाँ घुटने लगेंगी,
झुकने न देंगे न्याय को हर भाव चलेगा |


लगता नहीं है डर हो समंदर में ज़हर भी,
हर शख्स अपनी-अपनी ले के नाव चलेगा |


गलियारों में तो देखना जब आग लगेगी,
तो साफ़-साफ़ चेहरों का ब्हाव चलेगा |


ले लेंगे अबकि छीन हकूकों को हलक से,
मत सोच छोटा-मोटा ‘हरश’ दाव चलेगा |


हर्ष महाजन
221 2121 1221 122
(मुजारी मुसम्मन अखरब मक्फुफ़ मह्जुफ़ )

Sunday, July 10, 2016

तनहा सी ज़िन्दगी में इक बात ढूंढते हैं

...

तनहा सी ज़िन्दगी में इक बात ढूंढते हैं,
जो हमको दे गयी गम वो रात ढूंढते हैं |

फुर्सत से दिल को उसने झुलसाया इस तरां से,
ये दिल के तनहा टुकड़े स्वालात ढूंढते हैं |

कैसे हुए वो दुश्मन हम से भी हैं खफा क्यूँ,
किस्मत में तीरगी के हालात ढूंढते हैं |

राहों में धूल दिल में गर्द-ओ-गुबार इतना,
उतरे फलक से कोई बरसात ढूंढते हैं |

वो दिलरुबां हुआ अब यूँ ही था उलझनों में,
इस दोस्ती में उस की नजरात ढूंढते हैं |

बिखरी सी बदलियों में जो चाँद है ज़मीं पर,
शब्-ओ-रोज़ क़ैद उस में ख्यालात ढूंढते हैं |

जादू का फन नहीं ये लफ़्ज़ों का फन है मेरे,
हर नज़्म हर ग़ज़ल में जज्बात ढूंढते हैं |


हर्ष महाजन


221 2122 221 2122
बहरे मज़ारिअ मुसम्मन मक्फ़ूफ़ मक्फ़ूफ़
मुख़न्नक मक़्सूर

Wednesday, July 6, 2016

घर-घर में यहाँ देख ये मंज़र ही मिलेगा

...
घर-घर में यहाँ देख ये मंज़र ही मिलेगा,
हर शख्स में नफरत का बवंडर ही मिलेगा |

आँखों से बहे अश्क भी ये सोचते होंगे,
ढूंढेगे नया घर तो वो बंज़र ही मिलेगा |

इतना है कपट शहर में हर बंदा परेशाँ,
हर घर में है कातिल कोई अंदर ही मिलेगा |

अब हो चुके हर शख्स में दर्दों के ज़खीरे,
इस शहर की हर आँख में खंज़र ही मिलेगा |

कैसे रुकेंगे आँखों से अब बहते ये दरिये,
गर उठ गया तूफ़ान समंदर ही मिलेगा |

हर्ष महाजन


221 / 1221 / 1221 / 122
बहरे हज़ज़ मुसम्मन अखरब मख्फूफ़ महजूफ
*दुश्मन न करे दोस्त ने ये काम किया है*

Monday, July 4, 2016

अपनी मंजिल के लिए होश-ओ-खबर खो के चले

...
अपनी मंजिल के लिए होश-ओ-खबर खो के चले,
दुश्मनी शौक़ नहीं पर वो मगर बो के चले |

मुब्तिला इश्क में वो....भूल गये सारे अदब,
भूल कर शाख-ए-वफ़ा वो बे असर हो के चले |

वो फलक छूने लगा जौक-ए-सितम जाने ये क्यूँ,
यूँ बिखर हम भी गये वो भी मगर रो के चले |

इश्क शोला तो हुआ......ताप मगर टूट गया,
हम पे बीती भी बहुत और जनम खो के चले |

हैं छुपे घाव मेरे अब न समझ पाये कोई,
रूह जब छोड़ चली जिस्म सभी ढो के चले |


हर्ष महाजन
.
मुब्तिला = मसरूफ
जौक-ए-सितम = अत्याचार सहने का शौक़

2122 / 1122 / 1122 / 112
(रमल मुसम्मन मखबून महजूफ)

*हम से आया न गया तुमसे बुलाया न गया | *
*कोई हमदम न रहा कोई सहारा न रहा |*

Friday, July 1, 2016

गल्त-फ़हमी थीं बढीं औ फासले बढ़ते रहे

...

गल्त-फ़हमी थीं बढीं औ फासले बढ़ते रहे,
हम मुहब्बत में वो लेकिन दुश्मनी करते रहे |

दिल तो था मजबूर लेकिन आँखे आब-ए-चश्म थीं,
पर कदम बढ़ते रहे उनके सितम चलते रहे |

हर सितम आईने सा उनका आँखों में यूँ छला,
हम भी पहलू में दिया बन जलते ओ बुझते रहे |

इश्क में खुद शूल बन वो सीने में चुभने लगा,
फिर यही गम ज़िंदगी में घुँघरू बन बजते रहे |

कैसे लिख दें दास्ताँ अपने ही लफ़्ज़ों में सनम,
गम समंदर हो चले वो दिल में जो पलते रहे |

हर्ष महाजन

आब-ए-चश्म = आंसू
बहरे रमल मुसम्मन महजूफ
2122-2122-2122-212