Follow by Email

Sunday, January 8, 2017

हर तरफ रस्में निभा मुजरिम सा क्यूँ दिखता हूँ मैं


...

हर तरफ रस्में निभा मुजरिम सा क्यूँ दिखता हूँ मैं,
जाने इतना कागजों पर दर्द क्यूँ लिखता हूँ मैं |
.
छू के भी देखी बुलंदी आसमां की थी कभी,
अब समंदर में यूँ दरिया बनके क्यूँ छिपता हूँ मैं |

इतनी उल्फत इतनी चाहत रिश्तों में दस्तूर भी,
है चमन इतना हसीं तो वीराँ क्यूँ दिखता हूँ मैं |

शख्स जिनकी रूह तक खौला किया मेरे लिए,
था शज़र तो शाख बन अब ऐसे क्यूँ झुकता हूँ मैं |

हर तरफ जब साजों पर चलती मुसलसल इक ग़ज़ल,
तो उतर कर हर्फों में ऐ ‘हर्ष’ क्यूँ बिकता हूँ मैं |

हर्ष महाजन


बहर ..
2122 2122 2122 212