Follow by Email

Monday, July 17, 2017

दाग तुम लगने न देना घर की उजली साख पर

...

दाग तुम लगने न देना घर की उजली साख पर,
बे-असर कर देना हों जब तल्खियां बे बात पर ।

कुछ सियासी दांव हैं अपने भी खेलें गैर भी,
हो हुनर अपने में इतना घर बना ले राख पर ।

चल पड़ीं गर नफ़रतें तो, दर्द-ए-सर हो जाएंगी,
फिर सिमट जाएंगे अपने अपनी-अपनी शाख पर ।

गर हुनर खुद में हो इतना भर मुहब्बत रिश्तों में,
बे-असर हो जाएगी दौलत तू रख दे ताक पर ।

बन शज़र रखना नज़र अपनों पे औ गैरों पे भी,
वर्णा रिश्ते रिश्ते क्या मचले जो हर जज़्बात पर ।

----------------------हर्ष महाजन

2122 /2122 /2122/ 212

Sunday, July 16, 2017

आज भारत की जमीं पर ऐसा क्यूं आतंक है

...

आज भारत की जमीं पर ऐसा क्यूं आतंक है,
अपनो का गैरों से मिलके साजिशों का रंग है ।

कौन किसके दर्द की रक्खे खबर इस देश में,
हर तरफ आतंकी हमले हर तरफ हुड़दंग है ।

बाहरी दुश्मन की ज़रूरत हिन्द को अब है कहाँ,
अपना हर नेता उजड कर बन रहा आतंक हैं ।

जो बहाते खून उनके हौंसले हैं क्यूं बुलंद,
है पता उनको यहां सर्पों सी फ़ौजें संग है ।

जिस तरह अब मौत का तांडव मचा है घाटी में,
मर रहे आतंकी पर तड़पे हैं वो जो भुजंग है ।

-------------------हर्ष महाजन 'हर्ष'